Online India

Pooja Sharma   2018-07-24

MS धोनी ने की एक और उपलब्धि अपने नाम, बने झारखंड के सबसे बड़े टैक्स पेयर

OnlineIndia खेल। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक और उपलब्धि हासिल कर ली है। इस बार उन्होंने क्रिकेट के मैदान से बाहर रिकॉर्ड बनाया है। धोनी ने वित्त वर्ष 2017-18 में 12.17 करोड़ रुपये टैक्स जमा किया है, जो बिहार-झारखंड में सबसे ज्यादा है।
धोनी पिछले कई वर्षों से झारखंड में सबसे अधिक आयकर देने वाले व्यक्ति हैं। 2016-17 में उन्होंने 10.93 करोड़ रुपए टैक्‍स के रूप में जमा किया था। धोनी 2013-14 में भी इस क्षेत्र से सबसे ज्यादा टैक्स देने वाले शख्स थे। यह जानकारी सोमवार को झारखंड के मुख्‍य आयकर आयुक्त वी महालिंगम ने प्रेस कांफ्रेंस में दी। इस अवसर पर संयुक्त आयकर आयुक्त निशा उरांव सिंहमार सहित अन्‍य अधिकारी मौजूद थे।
कारपोरेट में सीसीएल सबसे बड़ा टैक्स दाता
मुख्य आयकर आयुक्त ने बताया कि कारपोरेट में सबसे अधिक टैक्‍स सीसीएल ने दिया है। सीसीएल ने वर्ष 2017-18 में 1,500 करोड़ रुपए का टैक्‍स के रूप में दिया। उन्होंने बताया कि व्यक्तिगत आयकर संग्रह के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन किया है। पिछले साल की तुलना में वर्ष 2017-18 के दौरान 88 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। पिछले वर्ष इस श्रेणी में 34.01 करोड़ रुपए टैक्‍स मिले थे। वित्तीय वर्ष 2017-18 में 67.60 करोड़ टैक्‍स के रूप में मिले हैं। एक जून 2018 तक अग्रिम कर संग्रह में 98.24 फीसदी की वृद्धि हुई है। कर संग्रह को बढ़ावा देने के लिए इस क्षेत्र में 180 सर्वेक्षण किए गए हैं। बिहार और झारखंड में पांच लाख 35 हजार 172 नए करदाता जोड़े गए हैं। पिछले वित्तीय वर्ष में झारखंड को 2,217 करोड़ रुपए टैक्‍स के रूप में मिले। चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए 2,516 करोड़ रुपए टैक्‍स वसूलने का लक्ष्य है।
31 जुलाई के बाद रिटर्न फाइल करने पर 5000 फीस
आयकर अधिकारियों ने बताया कि 31 जुलाई के बाद रिटर्न फाइल करने के लिए 5000 रुपए फीस लागू होगा, लेकिन 31 दिसंबर से पहले यह जमा करना होगा। 31 दिसंबर के बाद आयकर रिटर्न फाइल करने पर 10 हजार रुपए जुर्माना लगेगा। पांच लाख रुपए तक के आय के लिए 1000 रुपए फीस लगेगा। वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए भी आयकर रिटर्न की अंतिम तिथि 31 जुलाई है। अधिकारियों ने कहा कि विभाग को सूचना मिली है कि कई वेतनभोगी कर्मचारी आय वापसी के लिए झूठी जानकारी दे रहे हैं। विभाग ने पहले ही बोकारो में ऐसे मामलों की पहचान की है। अब तक 1000 से अधिक मामलों की पहचान की गई है। ऐसे मामले में जुर्माने की कार्रवाई शुरू की गई है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like